खामौशी..

15977358_1036055203190379_9131318756119793904_n

यह जो खामौशी सी है..

मेरे होंटों पर,

इसे मेरी कमज़ोरी ना समझना कभी..

हर पल दूसरों का साथ निभाना,

दूसरो के काम आना,

मेरी कमज़ोरी नही,

मेरी आदत है..

इसलिए,

मेरी चूपी से ना कर बैठना,

मेरे किरदार का फैसला..

मेरी खामोशी को,

मेरी कमज़ोरी ना समझना क्योकि..

एसा ज़रुरी तो नही कि,

हर बात का जवाब हो..

अक्ल लगानी ही है,

समझना ही है,

तो..

समझो इस खामोशी को,

क्योकि..

हर बार खामोशी को ज़ूबान देना ज़रूरी नही..

2 comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s