पहली औंर आखरी..

16427635_1106684586127440_162046412963795270_n

उस पहली बार बात करने से लेकर,

बात बात पर ना बात करने तक..

सदियों के बाद बात करने से लेकर,

हर दूसरे दिन बात करने तक..

सब कुछ छप सा गया है अब,

मेरे दिल की किताब पर..

 

लिखा है जिसे तुने नही,

समय ने, मेरे आंसुयों ने..

एसे आंसुयों ने..

जिन्हे,

बहाता था तू कभी

मेरे लिए..

 

अब याद आता है वो कल..

जो जा चुका है अब..

ना लौंट कर आने के लिए कभी..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s